रियलिटी शो बनाम ज़िन्दगी

0
718
photocollage_2020917211242166-d63e246e

1962 में  ‘युनाइटेड  स्टेट्स ऑफ अमेरिका’ के राष्ट्रपति श्री  जॉन एफ कैनेडी के जन्मदिन पर मर्लिन मुनरो, जो उस वक्त एक लोकप्रिय अमेरिकी अभिनेत्री थी उन्होंने ‘हैप्पी बर्थडे टू यू मिस्टर प्रेसिडेंट’ गाया था। डेमोक्रेटिक पार्टी ‘ मैडिसन स्क्वायर गार्डन ‘पर एक  फंडरेजिंग प्रोग्राम  करना चाहती थी। पार्टी  के शीर्ष नेता यह बात जानते थे कि कैनेडी के अकेले आने पर यह संभव नहीं होगा इसलिए उन्होंने मेरीलिन मुनरो को वहां पर आमंत्रित किया” हैप्पी बर्थडे टू यू मिस्टर प्रेसिडेंट ” गाने के लिए । हालाकि वो इसको गाने के बाद मज़ाक का ही पात्र बनी।उन्हीं दिनों जॉन एफ कैनेडी और मर्लिन मुनरो का अफेयर  दुनिया में सुर्खियां बटोर रहा था।  मुनरो की बेस्ट फ्रेंड ने एक डॉक्यूमेंट्री में क्रू को बताया था कि  मैरिलिन मुनरो mrs कैनेडी  बनना चाहती हैं  और उनको आत्मविश्वास है की  एक दिन जॉन एफ कैनेडी अपनी बीवी जैकी कैनेडी को छोड़कर  उनसे शादी कर लेंगे।  जॉन एफ कैनेडी महत्वकांक्षी और राजनीति में पारंगत व्यक्ति थे। वह जानते थे कि अगर उन्होंने जैकी कैनेडी,जो  अमेरिका की सबसे पसंद किए जाने वाली औरतों में से गिनी जाती थी और जो अंतर्राष्ट्रीय दौरों में अपने सौम्य और मेहमान नवाजी वाले स्वभाव से लोगों का दिल जीत लिया करती थी ,अगर वो ऐसा करते है तो वो  कभी भी इलेक्शन नहीं जीत पाएंगे। उल्टा केनेडी की इमेज पर भी बात आएगी और उनका राजनीतिक करियर  खतरे में पड़ सकता था। इन सब पहलुओं को मद्देनजर रखते हुए  जॉन एफ कैनेडी ने मर्लिन मुनरो के साथ अपना अफेयर खत्म कर लिया था। क्या यहां पर मुनरो गलत थी? मुझे नहीं लगता ।मुनरो की मां एक मानसिक रोगी थी और मैरीलिन ने अपना बचपन बेहद कठिनाइयों से गुजारा करा था।  उन्होंने अपने दम पर हॉलीवुड में अपनी पहचान बनाई। अपने टैलेंट अपनी खूबसूरती  अपनी मनमोहक आदाओं की वजह से वह पूरी दुनिया में जानी गई। अंदर से बेहद संवेदनशील और टूटी हुई वो मैरिलिन मुनरो की आंखें चिला चिला कर बोलती थी कि उनको प्यार और मदद की जरूरत है  पर दुनिया ने को सिर्फ उन्हें एक वस्तु समझा। आखिर मर्लिन मुनरो कहां गलत हुई?  मेरे हिसाब से मुनरो गलत हुई अति उत्साहित बड़बोले और  जीवन में  संतुलन ना बनाने के कारण। वह यह नहीं समझ पाई की क्या  छुपाना है और क्या  दिखाना है दुनिया को।

 

इसी तर्ज पर आती हैं साल 2007 के एक रियलिटी शो से लॉन्च हुई किम करदाशियां।  किम करदाशियां को  जाना जाता है उनके सेक्स टेप के लिए जो  उन्होंने अपने उस समय के बॉयफ्रेंड रे जी के साथ मिलकर बनाया था।   इस सेक्स टेप के फौरन बाद ही किम करदाशियां को प्लेबॉय के संस्थापक यू हेफनर ने प्लेबॉय मैगजीन में पोज देने का ऑफर दिया था।  पहले किम करदाशियां काफी हिचकिचाई पर जब उनको  चला कि उनकी आइडल मैरिलिन मुनरो ने भी प्लेबॉय मे काम करा है तो उन्होंने  फौरन हां कर दी और वो साल 2007 में प्लेबॉय मैगजीन की कवर पेज पर आईं। हालांकि इसके बाद किम ने काफी सारे  साक्षातकारों में  यह बात बोली कि प्लेबॉय करने का उनको काफी अफसोस है लेकिन यह बात बचकानी थी क्योंकि प्लेबॉय ने ही किम का कैरियर लांच किया था। इसके बाद किम करदाशियां  जानी जाती हैं अपने रीयल्टी शो’ कीपिंग अप विद दा करदाशियांन्स ‘की वजह से  जिसने साल 2007 से 2020 तक करोड़ों दर्शक अपनी तरफ आकर्षित किए।  किम करदाशियां  की सौतेली छोटी बहन काइली जेनर दुनिया में सबसे कम उम्र की  ‘अरबपतियों’ की लिस्ट में पहले स्थान पर  आती हैं  ।उनकी एक और बहन कैंडल जेनर  मॉडलिंग की दुनिया की सबसे सफल और महंगी मॉडल है।  3 दिन पहले मुझे पता चला कि इनका रियालिटी शो 2021 में बंद हो रहा है। मुझे यह समझ नहीं आया कि इतने सालों तक जिस रियलिटी शो ने इतने दर्शक अपनी तरफ आकर्षित किए हो और जिस शो ने इनके परिवार  को फर्श से अर्श तक पहुंचा दिया वह अचानक बंद क्यों हो रहा है? तो वजह वही है जो आप लोगों को शायद अन्तर्मन से पता है ?

सिंपल सी बात है कि इस रियलिटी शो की वजह से इनकी निजी जिन्दगी तितरबितर है और इनके आपसी रिश्ते खस्ताहाल है। जिन बातों को लेकर कभी इन लोगों ने अरबों रुपए कमाए  आज वही बाते इन लोगों के गले की फांस बन गई है। किम की तीसरी शादी भी खत्म होने के कगार पर है जो उन्होंने ‘रैपर’ कान्ये वेस्ट  से की थी , और इसकी वजह इनका यह शो माना जा रहा है।

 

 यह इतने लंबे उधाहरण मैंने क्यो क्यों दिए इसके पीछे मेरा भय है। मुझे लगता है की कंगना राणावत जी की जिंदगी भी कोई रियालिटी शो बनती जा रही है  जिसका फायदा सब उठा रहे हैं।  कंगना जी ने कल अपने एक इंटरव्यू में बोला की उर्मिला मातोंडकर एक’ सॉफ्ट पॉर्न’ स्टार है। मैंने कंगना राणावत  की  ‘मणिकर्णिका ‘देखी थी और मुझे उसमें उनकी एक्टिंग बिल्कुल साधारण और मामूली लगी। ‘मणिकर्णिका’ से अच्छी एक्टिंग उन्होंने ‘तनु वेड्स मनु ‘और ‘फैशन’ जैसी मूवी में करी थी।  उर्मिला जी ने जो अभिनय ‘भूत ‘और  ‘ बनारस’ फिल्म में  करा है उसका तोड़ पाना  बहुत मुश्किल है।  कंगना जी सब पर निजी आरोप लगाती  हैं पर अगर कोई उनके बारे में बस यह कह देता है  की क्या किसी सभ्य महिला से आप  ऐसे व्यवहार की उम्मीद करते हैं? तो कंगना जी आहत हो जाती हैं।  कंगना जी ड्रग्स के खिलाफ मोर्चे में खड़ी है इसके लिए वह बधाई के पात्र हैं । वो जिस बेबाकी से अपनी राय रखती है वो भी  सराहनीय है लेकिन अब लगता है कि कंगना जी निजी और सार्वजनिक जीवन में ताल मेल नहीं बिठा पा रही है। कंगना जी को यह बात समझनी होगी कि वह एक इंटरटेनमेंट इंडस्ट्री से आती है। इस देश में  जहां पर अधिकतर लोग बेरोजगार हैं कुंठित हैं उनके इस तरह के बयान सुनकर अपनी कमियों और नाकामियो  पर पीठ थपथपा रहे हैं। इल्ज़ाम , तू तड़ाक और  अपमान की भाषा बोलने से वो किन लोगो की  मार्गदर्शक बनना चाह रही हैं?क्या आगे  चल कर अपनी पिक्चर में खुद ही एक्टिंग खुद ही डायरेक्शन और फिल्म को खुद ही प्रोड्यूस  करेगी?

वो अपने हर इंटरव्यू में यह बात बोलते देखी जा सकती है कि मैं तो तीन टाइम नेशनल अवॉर्ड विनर हूं ,मैं डायरेक्टर हू  ,यह लोग से मेरे क्या कंपैरिजन और इत्यादि । इन सबमें उनका अहंकार दिखता है।

 मै अंत में बस यह बोलना चाहती हूं  कि कंगना जी लोगों को मजे देना बंद करिए। आज आपको यह  सर पर बैठा रहे हैं जैसे उन्होंने कभी अमिताभ बच्चन करण जोहर रितिक रोशन सलमान खान और बाकी सब को बैठाया था। आपको कभी भी और किसी भी वक्त यही लोग  नीचे भी गिरा देंगे ।आप बेहतर होगा अगर अपने काम से  जानी जाएं ,अपने बेहतरीन टैलेंट की वजह से जानी जाएं ना ही किन्हीं निजी हमलों की वजह से । एंड में मैं वही डायलॉग बोलना चाहूंगी जो फैशन मूवी का था की  

इंटरटेनमेंट  इंडस्ट्री में टैलेंट कम हो तो चलता है पर अगर व्यवहार गलत है तो कुछ नहीं चलता।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here